Kajari Teej 2023 Puja Vidhi Shubh Muhoort कजरी तीज कब है, जानें डेट, तिथि, शुभ मुहूर्त

Kajari Teej 2023 Kajari Teej 2023 Puja Vidhi Shubh Muhoort, Kajari Teej Shubh Muhoort, Kajari Teej हिन्दू धर्म में मनाया जाने वाला पर्व है |. Kajari Teej का पर्व हिन्दू धर्म में सुहागिन महिलाओ के लिए खास महत्व रखता है| और महिलाएँ इसका व्रत करती है|बड़ी धूमधाम से करती है इस व्रत में कथा और कहानी सुनते है| इस लिए हम आपके लिए कथा और कहानिया लेकर आये है | Kajari Teej, कजरी तीज, Kajari Teej Katha, Kajari Teej Vrt, Kajari Teej Puja Vidhi, कजरी तीज पूजा विधि, Kajari Teej Shubh Muhoort, कजरी तीज शुभ मुहूर्त, व्रत Kajari Teej 2023 Date Timing, Kajari Teej Puja Vidhi, कजरी तीज पूजा विधि, Kajri Teej 2023 Puja Vidhi, Kajari Teej Importance, Kajari Teej , Kajari Teej Vart Katha, Kajari Teej Vart In Hindi, Kajari Teej Katha In Hindi, तथा इस बार कजरी तीज 02 सितम्बर 2023 को मनाया जाएगा|

Kajari Teej 2023 Pooja Vidhi In Hindi

Kajari Teej 2023 Puja Vidhi: हिन्दू धर्म में व्रत त्योहारों का विशेष महत्व होता है| महिलाएँ साल भर में कई तरह के व्रत रखती है| जिसमे प्रमुख रूप से तीज का पर्व सुहागिन महिलाओ के लिए खास महत्व रखता है| तीज के त्योहारों में महिलाएँ दिन भर निर्जला व्रत रख भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा कर उपासना रखती है| साल में तिन बार तीज का त्यौहार मनाया जाता है| ”1. हरियाली तीज 2. कजरी तीज 3. हरतालिका तीज” सभी तीज में पति की लंबी आयु और सुख समर्धि की कामना के लिए महिलाए व्रत और पूजा पाठ करती है| आईए जानते है, कब कब मनाई जाती है| ये तिन तरह की तीज और इसमे क्या अंतर होता है|

Kajari Teej 2023 Puja Vidhi Shubh Muhoort कजरी तीज कब है, जानें डेट, तिथि, शुभ मुहूर्त

Hriyali Teej 2023
Kajari Teej Pooja Vidhi 2023: हरियाली तीज हर वर्ष ”सावन महीने के शुक्ल पक्ष की तर्तीय तृतीया तिथि पर तीज का त्योहार मनाया जाता है।” इसे हरियाली तीज या श्रावणी तीज भी कहते हैं। सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु की कामना और परिवार की सुख-समृद्धि के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। हरियाली तीज के मौके पर सुहागिन महिलाएं श्रृंगार कर दिन भर व्रत रखते हुए भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा-आराधना और जाप करती हैं। हरियाली तीज का उपवास ”सुहागिन महिलाओं के साथ कुंवारी लड़कियां अच्छे वर की कामना के साथ करती हैं।’‘ मान्यता है. कि सावन महीने में भगवान शिव ने देवी पार्वती की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें पत्नी रूप में स्वीकार करने का वर दिया था। तथा इस वर्ष हरियाली तीज 02 सितम्बर 2023 का हरियाली तीज है। सावन के मौसम में हर जगह हरियाली दिखने से इसे हरियाली तीज के नाम से जाना जाता है, यां का नाम दिया गया है।

Kajari Teej 2023 Puja Vidhi Shubh Muhoort कजरी तीज कब है, जानें डेट, तिथि, शुभ मुहूर्त

Kajri Teej 2023
Kajari Teej 2023 Pooja Vidhi: कजरी तीज हरियाली तीज की तरह ही कजरी तीज का त्योहार मनाया जाता है। यह व्रत भी विवाहित महिलाएं पति की दीर्घायु की मनोकामना के साथ रखती है कजरी तीज भादो के महीने की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर मनाई जाती है। इसे भादो तीज भी कहा जाता है। इस व्रत में भी सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु की कामना में भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा विधिवत रूप से करती है। कजरी तीज इस वर्ष 02 सितम्बर 2023 को मनाई जाएगी।

Kajari Teej 2023 Puja Vidhi Shubh Muhoort कजरी तीज कब है, जानें डेट, तिथि, शुभ मुहूर्त

कजरी तीज पूजा मुहूर्त 2023
कजरी तीज शनिवारर: 02 सितम्बर 2023 3 को
तृतीया तिथि प्रारम्भ : 03 सितम्बर 2023 को 10:50 PM बजे
तृतीया तिथि समाप्त : 04 सितम्बर 2023 को 12:44 AM बजे

Kajari Teej 2023 Puja Vidhi Shubh Muhoort कजरी तीज कब है, जानें डेट, तिथि, शुभ मुहूर्त

कजरी तीज पूजा विधिं 2023
कजरी तीज पूजा विधि:

इस दिन निर्जला व्रत रख भगवान शिव और माता पार्वती का पूजन किया जाता है।
व्रत वाले दिन व्रती महिलाएं सुबह जल्दी उठ स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लें।
फिर पूजा स्थान में जाकर व्रत करने का संकल्प लें और उमामहेश्वरसायुज्य सिद्धये हरितालिका व्रतमहं करिष्ये मंत्र का जाप करें।
इसके बाद साफ मिट्टी से भगवान शिव, माता पार्वती और गणेश जी की प्रतिमा या मूर्ति बना लें।
अगर ऐसा करना संभव ना हो तो आप समस्त शिव परिवार की मूर्ति पूजा घर में रख सकते हैं।
इसके बाद सबसे पहले भगवान गणेश का पूजन करें।
फिर महादेव और माता पार्वती की अराधना करें।
पूजा के समय पार्वती जी को श्रृंगार की सामग्री अर्पित करें और शिव को वस्त्र चढ़ाएं।
इसके बाद महिलाएं तीज व्रत की कथा सुनें या पढ़ें।
अंत में भगवान गणेश, माता पार्वती और शिव जी की आरती करें।
उन्हें नैवेद्य अर्पित करें और फिर घर के बने स्वादिष्ट पकवानों का भोग लगाएँ।
फिर उसी प्रसाद को खुद ग्रहण करें और दूसरों में बाटें।
संध्या काल में एक समय सात्विक भोजन करते हुए, तीज का व्रत खोले।

Leave a Comment