Netaji Subhash Chandra Bose Jayanti 2021 Shayari Messages SMS Quotes Poem

Netaji Subhash Chandra Bose Jayanti 2021. Netaji Subhash Chandra Bose Jayanti (Shayari, Messages, SMS, Quotes, Poem,) In Hindi. नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती ( जयंती 23 January 2021 शनिवार मनाया जाएगा ) सुभाष चंद्र बोस को सुभाष चान्द्रोर बोशु के नाम से भी जाना जाता है| सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को हुआ था| नेताजी सुभाष चंद्र बोस भारत के स्वतन्त्रता संग्राम के अग्रणी तथा सबसे बड़े नेता थे| द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़ने के लिये उन्होंने जापान के सहयोग से आज़ाद हिन्द फौज का गठन किया था| उनके द्वारा दिया गया जय हिन्दू का नारा भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया है। “तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा” का नारा भी उनका था जो उस समय अत्यधिक प्रचलन में आया था|.

Subhash Chandra Bose

नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म जनवरी 1897 में ओडिशा के कटक शहर में हिंदू कायस्था परिवार में हुआ था|म्रत्यु 18 अगस्त 1945 में हुईं थी| उनके पिता का नाम जानकीनाथ बोस और माता का नाम प्रभावती था| जानकीनाथ बोस कटक शहर के मशहूर वकील थे| पहले वे सरकार वकील थे बाद में उन्होंने निजी प्रोटिक्स शुरू कर दिया था| सुभाष चंद्र बोस कटक के प्रोटेस्टेण्ट स्कूल से प्राइमरी शिक्षा पूर्ण कर 1909 में उन्होंने रेवेनशा कॉलेजियेट स्कूल में दाखिला लिया| कॉलेज के प्रिन्सिपल बेनीमाधव दास के व्यक्तित्व का सुभाष के मन पर अच्छा प्रभाव पड़ा|.

मात्र पन्द्रह वर्ष की आयु में सुभाष ने विवेकानन्द साहित्य का पूर्ण अध्ययन कर लिया था| 1915 में उन्होंने इण्टरमीडियेट की परीक्षा बीमार होने के बावजूद द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण की|1916 में जब वे दर्शनशास्त्र (ऑनर्स) में बीए के छात्र थे किसी बात पर प्रेसीडेंसी कॉलेज के अध्यापकों और छात्रों के बीच झगड़ा हो गया सुभाष ने छात्रों का नेतृत्व सम्भाला जिसके कारण उन्हें प्रेसीडेंसी कॉलेज से एक साल के लिये निकाल दिया गया और परीक्षा देने पर प्रतिबद्ध भी लगा दिया|.

Netaji Subhash Chandra Bose Important Details

जन्म 23 जनवरी 1897कटक, बंगाल प्रेसीडेंसी का ओड़िसा डिवीजन, ब्रिटिश भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
शिक्षा बी०ए० (आनर्स)
शिक्षा प्राप्त की कलकत्ता विश्वविद्यालय
पदवी अध्यक्ष (भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस)(1938) सुप्रीम कमाण्डर आज़ाद हिन्द फ़ौज
प्रसिद्धि कारण भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के अग्रणी सेनानी तथा सबसे बड़े नेता
राजनैतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस 1921–1940,फॉरवर्ड ब्लॉक 1939–1940
धार्मिक मान्यता हिन्दू
जीवनसाथी एमिली शेंकल (1937 में विवाह किन्तु जनता को 1993 में पता चला)
बच्चे अनिता बोस फाफ

Subhash Chandra Bose

Netaji Subhash Chandra Bose Jayanti Shayari

नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती प्रत्येक वर्ष की तरह इस बार भी 23 जनवरी 2021 शनिवार मनाई जाएगा | सुभाष चंद्र बोस को हमारे इस देश में कौन नहीं जानता उनके द्वारा दिया गया नारा तुम मुझे खून दो ,मैं तुम्हें आजादी दूंगा आज भी हमारे देश के युवाओं के लिए प्रेरणादायक है| द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान, अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़ने के लिये, उन्होंने जापान के सहयोग से आज़ाद हिन्द फौज का गठन किया था| उनकी इस उपलब्धि को ध्यान में रख कर हमारे देश में हर साल उनके जन्मदिवस के मौके पर उनकी जयंती मनाई जाती है|

इसीलिए हम आपको उनकी जयंती के उपलक्ष्य में कुछ प्रेरणादायक शायरी बताते Subhash Chandra Bose Shayari, Subhash Chandra Bose Shayari In Hindi, Subhash Chandra Bose Top 10 Shayari, Subhash Chandra Bose Facebook Shayari, Subhash Chandra Bose Whatsapp Shayari, Subhash Chandra Bose Desh Bhakti Shayari, Desh Bhakti Shayari, Desh Bhakti Shayari Status,

Netaji Subhash Chandra Bose Jayanti Shayari In Hindi

सुबह से पहले अँधेरी घडी अवश्य आती है,
बहादुर बनो और संघर्ष जारी रखो,
क्योंकि स्वतंत्रता निकट है…..||

Subhash Chandra Bose Shayari

वह खून खून नहीं वह पानी है
जो देश के काम ना आये बेकार वो जवानी है…..||

Subhash Chandra Bose Shayari In Hindi

उस देश की सरहद को कोई छू नहीं सकता है
जिस देश की सरहद की निगाहेबान आँखें है…..||

Subhash Chandra Bose Top 10 Shayari

आपके लिए भारत एक जमीन का टुकड़ा हो सकता है
हमारे लिए तो ये माँ से भी बढ़कर है
जिसके गोंद में पलकर बढ़े हुए है…..||

Subhash Chandra Bose Facebook Shayari

इतना ही कहेना काफी नहीं भारत हमारा मान है,
अपना फ़र्ज़ निभाओ देश कहे हम उसकी शान है…..||

Subhash Chandra Bose Whatsapp Shayari

बंद करो ये तुम आपस में खेलना अब खून की होली,
उस मां को याद करो जिसने खून से चुन्नर भिगोली…..||

Subhash Chandra Bose Desh Bhakti Shayari

बड़ा ही गहरा दाग़ है यारों जिसका ग़ुलामी नाम है,
उसका जीना भी क्या जीना जिसका देश ग़ुलाम है…..||

Desh Bhakti Shayari

किसकी राह देख रहा,
तुम खुद सिपाही बन जाना,
सरहद पर ना सही ,
सीखो आंधियारो से लढ पाना…..||

Desh Bhakti Shayari Status

जो भरा नहीं है भावों से
बहती जिसमें रसधार नहीं
वह हृदय नहीं है पत्थर है
जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं…..||

Desh Bhakti Shayari In Hindi

चूमा था वीरों ने फांसी का फंदा
यूँ ही नहीं मिली थी, आजादी खैरात में
दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं…..||

Desh Bhakti Whatsapp Shayari

कुछ नशा तिरंगे की आन का हैं,
कुछ नशा मातृभूमि की शान का हैं,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का हैं…..||

Leave a Reply